भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुहरे में सोए हैं पेड़ / माहेश्वर तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुहरे में सोए हैं पेड़
पत्ता-पत्ता नम है
यह सबूत क्या कम है

लगता है
लिपटकर टहनियों से
बहुत-बहुत
रोए हैं पेड़ ।

जंगल का घर छूटा
कुछ-कुछ भीतर टूटा
शहरों में
बेघर होकर जीते
सपनों में खोए हैं पेड़ ।