भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुहासा / कार्ल सैण्डबर्ग / राधारमण अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उतरता है कुहासा
दबे पाँव
बिल्ली की तरह
बैठता है
छा जाता है पूरे शहर पर

ठहरता है
चुपचाप
थोड़ी देर

और चला जाता है
बिना कुछ कहे
यूँ ही ।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : राधारमण अग्रवाल