भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कूए-अदू में रखिये ज़रा होशे-नक़्शे-पा / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कूए-अदू में रखिये ज़रा होशे-नक़्शे-पा
हो जाएं नक़्शे-पा न हम-आगोशे नक़्शे-पा

रहता है आप का निगराँ कौन हर क़दम
किस के हैं नक़्शे-दीदा ये हमदोशे-नक़्शे-पा

पर्दा तुम्हारी पर्दा-नशीनी का उठ गया
कुछ कहने की हैं वा लबे-ख़ामोशे-नक़्शे-पा

उफ्तादगाने-ख़ाक की मिट्टी ख़राब है
जुज़ गर्दे-राह कुछ नहीं तन पोशे-नक़्शे-पा

एहवाले-रफ्तगाने-अदम किस से पूछिए
ताबे-समाअ रखते नहीं गोशे-नक़्शे-पा

गुज़री 'वफ़ा' जो मुझ पे रहे-कूए-दोस्त में
शाहिद हैं उस के दीदाए-ख़ामोशे-नक़्शे-पा