भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कूचा-ए-यार ऐन कासी है / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कूचा-ए-यार ऐन कासी है
जोगी-ए-दिल वहाँ का बासी है

पी के बैराग की उदासी सूँ
दिल पे मेरे सदा उदासी है

ऐ सनम तुझ जबीं उपर ये ख़ाल
हिंदु-ए-हरव्‍दार बासी है

ज़ुल्‍फ़ तेरी है मौज जमना की
तिल नजिक़ उसके ज्‍यूँ सनासी है

घर तेरा है ये रश्‍क़-ए-देवल-ए-चीं
उस में मुद्दत सूँ दिल उपासी है

ये सियह ज़ुल्‍फ़ तुझ ज़नख़दाँ पर
नागनी ज्‍यूँ कुएँ पे प्‍यासी है

ऐ 'वली' जो लिबास तन पे रखा
आशिक़ाँ के नजिक़ लिबासी है