भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कूबलो ठूंठ : एक लखाव / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पीळीयै में पड़ी
मांदी मा दांई
    रेत
गळियोड़ै गोडां आळै
अणकमाऊ बाप दांई
             खेत

इणी खेत में
सांस टूटतै री आस दांई
कमाण हुयोड़ो ठूंठ
ठूंठ सूं निकळियोड़ी दो डाळां

आंख्यां आगै पसरै दीठाव
जाणै हाथ पसार र
मांगतो हुवै कोई कूबलो-

रूतराज !
कीं तो म्हैर करो म्हांरै माथै ई !