भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कू क्लक्स / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: लैंग्स्टन ह्यूज़  » संग्रह: आँखें दुनिया की तरफ़ देखती हैं
»  कू क्लक्स

मुझे वो लोग खींचकर ले गए
एकांत में
पूछा- "गोरे लोगों के बारे में
तेरा क्या ख़याल है?"

मैंने कहा- "सुनिए, महाशय!
सच बात तो यही है कि
जो आप कहें वही सही है
अगर मुझे छोड़ दें तो।"

फिर उनमें से एक गोरे ने कहा
"बेटे यह भी तो हो सकता है
कि तू मेरी हत्या करने के लिए ही
यहाँ खड़ा था?"

फिर उसने मेरे सिर पर प्रहार किया
और मुझे नीचे गिरा दिया
और सब लगे मुझे जमकर पीटने
लाठी से ताबड़-तोड़

फिर उनमें से एक ने कहा
"अरे, ओ निगर, मेरी ओर देख
और बोल कि गोरों का महत्त्व स्वीकार करता है।"


मूल अंग्रेज़ी से अनुवाद : राम कृष्ण पाण्डेय