भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कृतज्ञताएँ / चेन्जेराई होव / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अनायास भर आते आँसू,
जीवन की परछाईं
मेरी रूह की हड्डियों में ।

मैं इन्तज़ार कर रहा हूँ बारिश में
इस शुष्क मौसम में भी :
भूख के एक मकान का ।

कोई भी देश जगेगा नहीं अब
किसी भी शहर में होगी नहीं रोशनी :
यह एक नास्तिक की यात्रा है
जिसमें बोते हैं वे केवल काँटे
और धैर्यहीन परिस्थितियाँ ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र