भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

केकरो जग ई फूल लगै / नन्दलाल यादव 'सारस्वत'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

केकरौ जग ई फूल लगै
केकरौ तेॅ बस धूल लगै।

ठंडा-ठंडा कोय नै बोलै
सब गेलै छै ‘कूल’ लगै।

कतेॅ दिन खटिया ऊ चलतै
जेकरोॅ टुटलोॅ चूल लगै।

दुख मेॅ सब रिश्ता केॅ खौजे
सुख मेॅ रिश्ता भूल लगै।

हेनोॅ कैन्हें नाव हिलै छै
कुछ गड़बड़ मस्तूल लगै।