भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

केवल एक द्वार खोल दो / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

     अधिक नहीं
     केवल एक द्वार खोल दो।
     प्रेम से
     ले चलो वहाँ तक
     या धकेल दो भीतर
     निष्ठुर होकर।
     आने दो अनन्त तारों को
     मेरे भीतर
     जलने दो मुझे
     प्रकाश पुंजों के
     चक्रव्यूह में।