भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

केवल यही / एलिसेओ दिएगो

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कविता कुछ नहीं है
सिवा एक प्राचीन स्टोव की चढ़ती
परछाईं में बातचीत के
जब सब चले गए हों,
और दरवाज़े के बाहर
अभेद्य वन सरसरा रहे हों ।

कविता केवल कुछ भ्रम है
जिनसे किसी को प्यार हो,
और जिनका क्रम समय ने बदल दिया हो,
जिनमें कि अब
केवल एक संकेत,
एक अनभिव्यक्त आशा,
वास करती हो ।

कविता और कुछ नहीं है
सिवा आनन्द के, परछाइयों में
बातचीत के,
जबकि और सब कुछ विदा ले चुका हो
और केवल ख़ामोशी हो ।