भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

केशव केसन अस करी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जतन करिया घणाई
रैवै इंयां ई
डूंगरिया उठाव
     ना छिटकै
     ना पड़ै सळ

कायम रैवै पाण
तण्यो रैवै डील
जाणै धनुष-कमाण
साध्यां सूं कीं सध्यो ई

पण
बाळणजोगा केस
   चुगली खावै
काच डरावै