भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैड़ा बरस्या ऐ लोर भायला / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कैड़ा बरस्या ऐ लोर भायला
घर-आंगण ऊग्या थोर भायला

दूध नै छाछ बता दाम धामै
गळी-गळी ऊभा चोर भायला

दो दाणा में करामात ठाडी
टूट्यो सत भूल्या जोर भायला

कंठां तांईं आया म्हैं तो अब
आ ई है जे बा डोर भायला

आं बातां सूं मन बिलमै कोनी
बात कोई नुंवी टोर भायला