भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैसा पुर-आशोब है दौरे-क़मर आज कल / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कैसा पुर-आशोब है दौरे-क़मर आज कल
दुश्मने-जाने-बशर क्यों है बशर आजकल

चलती हैं अपने यहां खून की पिचकारियां
जलते हैं घी के दिये ग़ैर के घर आज कल

क़द्रे-हुनर है किसे, क़द्र-हुनर हैं कहां
कोड़ियों में हैं गिरां ला'लो-गुहर आज कल

देख रहा हूँ मगर कर नहीं सकता बयां
हो रहे हैं जो सितम शामो-सहर आज कल

आशिक़े-ज़ार आप का, नाम है शायद 'वफ़ा'
फिरता है इक बे-नवा ख़ाक-ब-सर आज कल।