भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैसी हवाए-ग़म चमने-दिल में चल गई / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कैसी हवाए-ग़म चमने-दिल में चल गई
सुब्हे-निशात शामे-अलम में बदल गई

उफ़ रे मआले-हसरते-तामीरे-आशियाँ
जिस शाख़ पर निगाह थी वो शाख़ जल गई

ज़ाहिर में देखने को है दुनिया वही मगर
असलीयत अब यही है जो दिल से निकल गई

किस दिन रक़ीब से न लड़ी वो निगाह-नाज़
किस दिन 'वफ़ा' छुरी न मिरे दिल पे चल गई।