भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैसे-कैसे तमाशे दिखा रहीं रोटियां / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कैसे-कैसे तमाशे दिखा रहीं रोटियां।
आदमी को सुबह-शाम नचा रहीं रोटियां।

मत पूछो कहां-कहां बिके लिबास के लिए,
अब लिबास में नंगापन दिखा रहीं रोटियां!

भूख ने दिखाये हमको ये करिश्मे आज,
चांद-सूरज तक में नजर आ रहीं रोटियां!

आप ही कहिये, कैसे कोई ख़्वाब बुनें,
सोने से पहले हमें जगा रहीं रोटियां!

किताबों में तलाशें तो शायद मिल जाये,
दुनिया से आदमी अब मिटा रहीं रोटियां।