भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैसे बनूँ? / बोधिसत्व

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारी आँख का काजल बनने के लिए
मैं राख होना चाहता हूँ

यदि तुम मुझे माँग में भरो तो
बताओ कि मैं तुम्हारी सिन्दूरदानी में कैसे बसूँ
सिक्का या सिन्दूर बन कर

यदि तुम्हारा दम घुट रहा हो तो
तुम्हारी साँस-साँस बन सकता हूँ
लेकिन बताओ तो भला कैसे बनूँ

यदि मुझे बनना हो कुछ और
तो भी बताओ क्या-क्या बनूँ
कैसे बनूँ ?
तुम्हारे लिए।