भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोई उथळो कोनी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सांस छोलू धोरां रै खोळै में
सुळियोड़ा बिरछ दांई एक गांव
सारै कर निसरै
काळी नागण-सी सड़क
सड़क ऊपर डाकी दांई बगै टाट्रा
एक पछै दूजो पछै तीजो पछै चौथो
अर बग्यां ई जावै

आ देख
टाबरां री आंख्यां
रह जावै फाटी-री-फाटी
उणारा चेहरा बण जावै
काळजै में खुबतै भालै सरीखा सवाल

जुगां-रा-जुग बीत्या
पण सवाल उणी ठौड़ कायम है
कोई उथळो कोनी
किणी माई रै लाल कनै ।