भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोई तो कहो ! / जगदीश जोशी / क्रान्ति कनाटे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब ग्रहों को खेल खिलाने का
मन हुआ तब मैंने
एक प्लेनेटोरियम बना लिया !

स्काईस्क्रैपर की छत पर
बासी बसन्त को
मरने दिया !

भूतकाल को मैंने तस्वीर में मढ़ लिया है
और इस तस्वीर का प्रदर्शन कर
लाँघ ली हैं मैंने काल की सीमाएँ ।

एक स्वीच ऑन
और तपती गरमी में
उतर आती है अनुकूल शीतलता ।

पतले तार मैं क़ैद हैं शब्द
और उन्हें मुक्त करने की चाबी
मैंने अपने हाथ में रखी है !

दवा की शीशी में
तन्दुरुस्ती भर
मैंने मौत से भी चाल चली है !

अपने बेचैन आकाश में मैंने
सूर्य-चन्द्र को
एक साथ प्रकटाया !

पर
कोई तो बताए
मैं जग रहा हूँ
या भभक रहा हूँ ?

मूल गुजराती से अनुवाद : क्रान्ति कनाटे