भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोई मेरे पीछे / निकानोर पार्रा / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरा लिखा
हर शब्द पढ़ता है
बाँए कन्धे के पीछे से झाँकता है
बेशर्मी से मेरी उलझन पर हंसता है
छड़ी और पूँछों वाला एक शख़्स

मैं देखता हूँ
पर वहाँ कोई नहीं है
फिर भी मुझे पता है
कोई मुझे देखता है

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य