भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोई मेरे पीछे / निकानोर पार्रा / श्रीकान्त दुबे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे दाहिने कन्धे के ऊपर से झाँक कर
मेरा लिखा हरेक हर्फ़ पढ़ता है
मेरी दुश्वारियों पर हँसता है बेशर्मों सरीखा
लबादे वाला कोट पहने और छड़ी थामे एक शख़्स

मैं पलटकर देखता हूँ तो कोई नहीं मिलता
हालाँकि मुझे मालूम है कि मेरी जासूसी हो रही है।

मूल स्पानी भाषा से अनुवाद : श्रीकान्त दुबे