भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोजागरी / उत्पल बैनर्जी / मंदाक्रान्ता सेन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सिर के भीतर कल रात
जितने कंगन बज उठे थे
मैंने सपने में
उनके सुरों को खोल-खोल कर देखा था
सुरीली चाँदी-जैसे गहने, कमसिन चाँद ...
गुजरीपंचम में उसके कोमल गांधार लग गया था

मैं उस जुन्हाई को, उस जादू को
अपने दिमाग़ में बचाए रखती हूँ

सिरहाने गंुजा की माला ने
गठानें खोलकर झटक दिया था आसमान,
भोर रात के सपने!
तब भी तुम्हारे नक़्क़ाशी के काम में
थोड़ी-सी... गीली... मिट्टी... लगी हुई थी।