भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोमो झील / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं ठहरी हुई हूँ अपने भीतर
जैसे अपने बिस्तर पर ठहरी कोई झील

शाम के वक़्त जब घिरने लगता है अँधेरा
तो अपने अस्तित्व को लेकर
मुझे कोई विस्मय नहीं होता ।