भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोयल क्यों नहीं कूकी / अनिरुद्ध प्रसाद विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रातें बीती
दिन भी बीते
रंग-राग में
फागुन बीता
नूतन अभिसारिका सी
बरसा फिर-फिर आई
महुवे की रस भरी डाल पर
कोयल कूकी
लेकिन मैंने
अपने आंगन में
जो चंदन का वृक्ष लगाया है
उस पर
कोयल क्यों नहीं कूकी ?