भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोयल राग विभोर / अवधेश कुमार जायसवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोन चिड़ैया गाछी फुदकै
कोयल राग विभोर
चंचल हिरणी वन-वन डोलै
पंख नचावै मोर।
सरसर पुरवा, डोलै पतवा
फूलवा रंग-विरंग
चूस परागन मौलै भंवरा
विरहा गीत चकोर।
छुपी-छुपी चंदा दूर से देखै
धरती लाज लजावै
देख मनोरम छटा जगत के
जुगनू दौड़लोॅ आबै।
टिम-टिम तारा
गगन लजावै
तान चदरिया कारी
मन में सोचै, लाज लजावै
करमोॅ केॅ दै छै गारी।
हमरोॅ रंग-विरंगा चादर
देतियोॅ हे भगवान
ओढ़ी चदरिया
हमहुं निखरतौं
रिझतौं सांझ विहान।
कुशल कामिनी
जैसनोॅ धरती
आलिगन सब तरसै
सूरज ने नौछावर करलकै
आपनोॅ सातोॅ रंग।
ब्रह्मा केॅ ई एकल रचना
सब देवतन केॅ जोग
सब रचना केॅ करम अलग छै
जेकरा जैसनोॅ भोग।