भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोरा कागज रख छोड़ा है / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभी अनकहा बहुत है बीच तुम्हारे मेरे
लिखे हुए शब्दों से ज्यादा
शब्द भरे हैं अंतराल में
सारा जीवन कोरा कागज रख छोड़ा है
कलम थमाकर तुमको
मैं अब मुक्त रहूँगी।
देखूँगी तुम किन शब्दों को
गढ़ पाते हो
देखूँगी तुम किन शब्दों को
पढ़ पाते हो।