भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोसां तांई तपता धोरा देखो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोसां तांई तपता धोरा देखो
सूखै गळो बळै पग दोरा देखो

थांरा दिया चिणा चाखणिया कैवै
लागै आक चाबणा सोरा देखो

आभै उडती चिड़ी सड़क पड़ बोली
भळै बावडै ऐ दिन दोरा देखो

कागद कैवै कुवो, पण कोनी अठै
सोध-सोध हुवै लोग दोरा देखो

काळी स्याही सूं कलम कथै कूड़
ऐ मन-कागद पड़्या कोरा देखो