भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोहरे में / हरमन हेस

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अनूठा है कोहरे में भटकना !
अकेला है हर झाड़ और पत्थर,
कोई पेड़ नहीं देखता किसी दूसरे को,
हर कोई अकेला है ।

मित्रों से भरा संसार था मेरा,
जब रोशन था मेरा जीवन,
अब जब कोहरा छा रहा है,
कोई दिखाई नहीं देता ।

सच में, कोई नहीं है समझदार,
नहीं जानता है अन्धेरे को,
अन्धेरा अपरिहार्य और निस्तब्ध है
यह उसे सबसे अलग करता है ।

अनूठा है कोहरे में भटकना,
एकाकी होना ही जीवन है,
नहीं जानता कोई आदमी दूसरे को,
हर कोई अकेला है ।

मूल जर्मन भाषा से अनुवाद : प्रतिभा उपाध्याय