भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कोहली स्टूडियो / बोधिसत्व

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भाई बहुत सुन्दर नहीं था
पर चाहता था दिखना सुन्दर
शादी के लिए भेजनी थी फोटो
उसे सुन्दर बनाया
कोहली स्टूडियो ने
ब्लैक एंड व्हाइट फोटो से ।

कुछ दिनों बाद
भाई के लिए आई एक
सुन्दर फ़ोटो देखने के लिए,
जिसे सबने सराहा देर तक ।

शादी तय हुई भाई की
उसी फ़ोटो वाली सुन्दर लड़की से ।

भाई की असुन्दरता पकड़ी गई
फेरे पड़ने के बाद,
भाभी भी बस थी ठीक-ठाक
नाक की जगह ही थी नाक ।

कोहबर में दोनों ने एक-दूसरे को फ़ोटो से
कम सुन्दर पाया
दोनों को बहुत सुन्दर दिखना था
दोनों ने कोहली स्टूडियो से
फ़ोटो खिंचवाया
दोनों को कोहली स्टूडियो ने
सुन्दर दिखाया
ब्लैक एंड व्हाइट फ़ोटो से ।

आज सब कुछ रंगीन है
फिर भी भाभी के कमरे में
टँगी है वही शादी के बाद
कोहली स्टूडियो से खिंचवाई
ब्लैक एंड व्हाइट फ़ोटो ।

कोहली ने न जाने कितनों को
सुन्दर बनाया है
न जाने कितनों को बसाया है
अपने ब्लैक एंड व्हाइट फ़ोटो से ।