भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोह के हों बार-ए-ख़ातिर गर सदा हो जाइये / ग़ालिब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोह के हों बार-ए-ख़ातिर गर सदा हो जाइए
बे-तकल्लुफ़ ऐ शरार-ए-जस्ता क्या हो जाइए
  
बैज़ा-आसा नंग-ए-बाल-ओ-पर है ये कुंज-ए-क़फ़स
अज़-सर-ए-नौ ज़िंदगी हो गर रिहा हो जाइए

---
वुसअत-ए-मशरब नियाज़-ए-कुल्फ़त-ए-वहशत असद
यक-बयाबाँ साया-ए-बाल-ए-हुमा हो जाइए