भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौआ और कबूतर / रतन सिंह ढिल्लों

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह लड़की
जो अपने
सुखे और ख़ुश्क बालों में
कपास की फूल टाँग रही थी

अपने
नंगे पैरों को ताकती
कपास के खेतों से वापस लौट रही थी

कीकर के नीचे
कौवे ने कबूतर को
तार-तार कर दिया था ।
 
मूल पंजाबी से अनुवाद : अर्जुन निराला