भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौन अपना? / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

41
सिर्फ़ दो बोल,
जो मन को सींचते
वे सबको खींचते,
नील नभ में
कुछ भी विलीन हो,
वे ही रह जाएँगे।
42
सोया हुआ जो
मन के द्वार आके
जगा देता है कोई,
जन्मों की नींद
रस-बाँसुरी बजा
भगा देता है कोई.
43
प्रभु का लेखा
हमको चलाता है
नाच भी नचाता है
जब चाहता,
मन्त्र बन मन में
उतर ही जाता है।
44
तेज़ हवाएँ
घायल हुए डैने
उड़ें किधर जाएँ?
कोहरा छाया
जीवन-पथ पर
आहत हैं दिशाएँ।
45
कौन अपना?
हर साथी हो गया
इक टूटा सपना,
शब्दों की कीलें
चुभती दिन-रात
बोलो किसे बताएँ!