भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौन तू खुदा मेरा / रेशमा हिंगोरानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

है जब भी डूबती साँसों ने तलाशा साहिल,
तू खुद-ब-खुद लिए कश्ती-ए-वफ़ा आया है,
हैं लडखडाए कदम जब भी सहारे के लिए,
तुझे कुहसार की मानिंद मैंने पाया है,

बेबाल-ओ-पर,
शिकस्ता-हाल,
हुई हूँ जो कभी,
तेरे ही तो करम का मुझपे रहा साया है,

है इस कदर जुडी हुई,
मेरी हस्ती तुझ से,
कुछ इस तरह है मुनहसिर,
मेरी हस्ती तुझ पे,

कि बिन तेरे मैं जी सकूँ,
बात इतनी सी नहीं,
मैं बिन तेरे भी जीना चाहूँ,
बात
इतनी सी है बस!