भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौन वक़्त ऐ वाए गुज़रा जी को / 'ज़ौक़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौन वक़्त ऐ वाए गुज़रा जी को घबराते हुए
मौत आती है अजल को याँ तलक आते हुए

आतिश-ए-ख़ुर्शीद से उठता नहीं देखा धुवाँ
आ खड़े हो बाम पर तुम बाल सुखलाते हुए

चाक आता है नज़र पैरहन-ए-सुब्ह-ए-बहार
किस शहीद-ए-नाज़ को देखा है कफ़नाते हुए

वो न जागे रात को और ज़िद से बख़्त-ए-ख़ुफ़्ता की
बज गया आख़िर गजर ज़ंजीर खड़काते हुए