भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौन वह / सविता सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लो रात अपनी स्याही में लिपटी हुर्इ अकेली
रिक्त अपने सपनों से आ गई
ओस उस पर ढुलमुल होती हुर्इ
एक काले गुलाब की पंखुरी पर जैसे
मुझ जैसी हो गई

दुनिया के कर्इ रहस्यों में से एक
खुद को समझती हुर्इ
मैं उसी की हो गई

मगर कौन है यह सपनों सा दौड़ता हुआ
जो आता है
मेरी काली देह में समा जाता है
कौन जो मेरी रातों को फिर से
हिला जाता है