भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौन सा तन है कि मिस्ल-ए-रूह इस में तू नहीं / इमाम बख़्श 'नासिख'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौन सा तन है कि मिस्ल-ए-रूह इस में तू नहीं
कौन गुल है जो मिरा मस्कन ब-रंग-ए-बू नहीं

जाम-ए-नर्गिस में कहाँ शबनम जो निकले आफ़्ताब
यार के आगे मिरी आँखों में इक आँसू नहीं

याद-ए-गेसू में हुआ मेरा ये धज्जी सा बदन
मुझ पे फबती कहते हैं मूबाफ़ है गेसू नहीं

जिस्म ऐसा घुल गया है मुझ मरीज़-ए-इश्क़ का
देख कर कहते हैं सब तावीज़ है बाज़ू नहीं

देखे हैं हँसने में जिस दिन से दुर-ए-दनदान-ए-यार
चैन मिस्ल-ए-ग़ौहर-ए-ग़लताँ किसी पहलू नहीं

इश्क़ में बदमस्त हूँ मैं पर कोई वाक़िफ़ नहीं
नश्शा है जाम-ए-मय-ए-उल्फ़त में लेकिन बू नहीं

ज़ुल्फ़-ए-जानाँ में नहीं कोई दिल-ए-वहशी असीर
ये अजब तातार है जो एक भी आहू नहीं

हो गया है ये क़िरान-ए-आफ़्ताब ओ माह-ए-नौ
यार के रूख़्सार-ए-आतिश-रंग पर अबरू नहीं

हो गया है मिस्ल-ए-मू तार-ए-निगह अपना सियाह
आगे आँखों के सनम जब से तिरे गेसू नहीं

रात दिन नाकूस कहते हैं ब-आवाज़-ए-बुलंद
दैर से बेहतर है काबा गर बुतों में तू नहीं

क़ुमरियाँ दीवानी हैं क्यूँकर गले में हो न तौक़
बाग़ में इक सर्व मिस्ल-ए-क़ामत-ए-दिल-जू नहीं