भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौन सी उलझन को सुलझाते हैं हम ? / नून मीम राशिद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लब बयाबाँ बोसे बे-जाँ
कौन सी उलझन को सुलझाते हैं हम ?
जिस्म की ये कार-गाहें
जिन का हैज़म आप बन जाते हैं हम !
नीम-शब और शहर-ए-ख़्वाब-आलुदा हम-साए
के जैसे दुज़्द-ए-शब-गर्दूं कोई !
शाम से थे हसरतों के बंदा-ए-बे-दाम हम
पी रहे थे जाम पर जाम हम
ये समझ कर जुर-ए-पिन्हाँ कोई
शायद आख़िर इब्तिदा-ए-राज़ का ईमान बने !
मतलब आसाँ हर्फ़ बे-मआनी
तबस्सुम के हिसाबी ज़ाविए
मत्न के सब हाशिए
जिन से ऐश-ख़ाम के नक़्श-ए-रिया बनते रहे !
और आख़िर बूद जिस्मों में सर-ए-मू भी न था
जब दिलों के दरमियाँ हाएल थे संगी फासले
कुर्ब-ए-चश्‍म-ओ-गोश से हम कौन सी उलझन को सुलझाते रहे !
कौन सी उलझन को सुलझाते हैं हम ?
शाम को जब अपनी ग़म-गाहों से दुज़्दाना निकल आते हैं हम ?
या ज़वाल-ए-उम्र का देव-ए-सुबुक-पा रू-ब-रू
या अना के दस्त ओ पा को वुसअतों की आरज़ू
कौन सी उलझन को सुलझाते हैं हम ?