भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या अजब ये हो रहा है रामजी / प्रदीप कान्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या अजब ये हो रहा है रामजी
मोम अग्नि बो रहा है रामजी
 
पेट पर लिक्खी हुई तहरीर को
आँसुओं से धो रहा है रामजी
 
आप का कुछ खो गया जिस राह में
कुछ मेरा भी खो रहा है रामजी
 
आँगने में चाँद को देकर शरण
ये गगन क्यों रो रहा है रामजी
 
सुलगती रही करवटें रात भर
और रिश्ता सो रहा है रामजी