भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या आपके पास थोड़ा सा समय होगा? / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

     बादल पहाड़ पर रूका
     और घाटी में बारिश हुई।
     मोटी मोटी बूँदें
     नदी बनकर
     बह चली मैदानों में।
     पहाड़ की खामोश आँखों ने
     देखा है बादल को छाते
     बारिश को आते
     और नदी को जाते।
     पहाड़ के पास
     कई किस्से हैं सुनाने को।
     क्या आपके पास
     थोड़ा सा समय होगा?