भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या तंग हम सितमज़दगां का जहान है / ग़ालिब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या तंग हम सितमज़दगां का जहान है
जिस में कि एक बैज़ा-ए-मोर आसमान है

है कायनात को हरकत तेरे ज़ौक़ से
परतव से आफ़ताब के ज़ररे में जान है

हालांकिह है यह सीली-ए ख़ारा से लालह रनग
ग़ाफ़िल को मेरे शीशे पह मै का गुमान है

की उस ने गरम सीनह-ए अहल-ए हवस में जा
आवे न कयूं पसनद कि ठनडा मकान है

क्या ख़ूब तुम ने ग़ैर को बोसह नहीं दिया
बस चुप रहो हमारे भी मुंह में ज़बान है

बैठा है जो कि सायह-ए दीवार-ए यार में
फ़रमां-रवा-ए किशवर-ए हिनदूसतान है

हस्ती का ए'तिबार भी ग़म ने मिटा दिया
किस से कहूं कि दाग़ जिगर का निशान है

है बारे ए'तिमाद-ए वफ़ा-दारी इस क़दर
ग़ालिब हम इस में ख़वुश हैं कि ना-मिहरबान है