भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

क्या तुमने बसंत को आँचल से बाँध रखा है? / पवन कुमार मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अधखिले है गुलमोहर

और कोयल,

मौन प्रतीक्षारत है

फूटे नहीं

बौर आम के,

नए पत्तो के अंगारे

अभी भी

ओस से गीले है,

सांझ ने उड़ेल दिया

सारा सिन्दूर

ढाक के फूलो में

पर,

रक्तिम आभा ओझल है

ओ सखी,

क्या तुमने बसंत को

आँचल से बाँध रखा है?