भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या तुम वहाँ होगे? / क्रिस्टीना रोजेटी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या तुम वहाँ होगे? मेरा उदास-सा दिल कहीं रो रहा,
ओह मेरे प्यार, क्या तुम्हारे साथ बैठकर मना पाऊँगी
मैं तुम्हारी जीत का जश्न और कर पाऊँगी साझा,
अनछुई दुल्हन सी तुम्हारी ख़ुशी को?
या फिर कोई और ही मृगनयनी छलकाएगी
साथ तुम्हारे बैठकर ख़ुशी का जाम?
और भीगेगी तुम्हारे साथ वह तुम्हारी
ख़ुशियों की बरसात में?
पर अगर है प्यार मुझे तो मैं क्यों जलूँगी,
ईर्ष्या की इस आग में?
मैं भी भीगूँगी और मनाऊँगी उत्सव तुम्हारी ख़ुशियों का,
भीगेगा मेरा दिल भी तुम्हारे साथ ही,
और तृप्त होगा तुम्हें सन्तुष्ट देखकर,
पाएगा अपनी तृप्ति, पाएगा अपनी मुक्ति,
तुम्हारी ही सन्तुष्टि में!

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : सोनाली मिश्र

और अब पढ़िए कविता मूल अँग्रेज़ी में
Will You Be There?

Will you be there? my yearning heart has cried:
Ah me, my love, my love, shall I be there,
To sit down in your glory and to share
Your gladness, glowing as a virgin bride?
Or will another dearer, fairer-eyed,
Sit nigher to you in your jubilee;
And mindful one of other will you be
Borne higher and higher on joy's ebbless tide?
--Yea, if I love I will not grudge you this:
I too shall float upon that heavenly sea
And sing my joyful praises without ache;
Your overflow of joy shall gladden me,
My whole heart shall sing praises for your sake
And find its own fulfilment in your bliss.