भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या दिल है अगर जलवा-गह-ए-यार न होवे / इनामुल्लाह ख़ाँ यक़ीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या दिल है अगर जलवा-गह-ए-यार न होवे
है तूर से क्या काम जो दीदार न होवे

कुछ रंग नहीं नग़मा ओ आहंग में उस के
बुलबुल जो बहाराँ में गिरफ़्तार न होवे

दिल जल जो गया ख़ूब हुआ सोख़्ता बेहतर
वो जिन्स ही क्या जिस का ख़रीदार न होवे

शमशाद को देवे है क़ज़ा वार के तुझ पर
जो जामा तेरे क़द पे सज़ा-वार न होवे

नईं बाग़-ए-मुहब्बत में ‘यक़ीं’ उस को कहीं चैन
जिस दिल में कि दाग़ों सेती गुलज़ार न होवे