भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्षणिका / लीना मल्होत्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एयर-कन्डीशनर की
थोड़ी-सी हवा चुरा के रख दी है
मैंने
तुम्हारी पसंदीदा क़िताबों में

जब
ज्येष्ठ की दुपहरी में
बत्ती गुल हो जाएगी
और
झल्ला कर खोलोगे
तुम क़िताब

तो तुम्हे ठंडी हवा आएगी