भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्षण-क्षण की छैनी से काटो तो जानूँ! / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्षण-क्षण की छैनी से
काटो तो जानूँ!

पसर गया है
घेर शहर को
भरमों का संगमूसा
तीखे-तीखे शब्द सम्हाले
जड़े सुराखो तो जानूँ!

फेंक गया है
बरफ छतों से
कोई मूरख मौसम
पहले अपने ही आंगन से
आग उठाओ तो जानूँ!

चैराहों पर
प्रश्न-चिन्ह सी
खड़ी भीड़ को
अर्थ भरी आवाज लगाकर
दिशा दिखाओ तो जानूँ!