भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खतरो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रंगां रै अरथ री
खोज-पड़ताल री बेळा
ठा पड़ी-
खतरै रो निसाण : लाल रंग
आज बा ऊभी है
लाल जोड़ै में
लाल टीको लगायां
मांग में सिंदूर भर’र
देखो किस्मत-
म्हनै बीं सूं मिलणो है !