भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खथावळ में / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चढ तो बैठ्या
धरती री छांती माथै
पाणी री ताकत सूं टेंटीज र
आंधा हुयोड़ा लोर

लंबी लड़त री हेवा धरती
आ कुश्ती कद हारै ?

जोर दिखावण री खथावळ में
बावळ हुयोडा लोर
घडी क बरस र
लचकाणा पड आपरै रस्तै लागै !