भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खरोंचें कभी पोंछी नहीं जाती / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बच्चे स्लेट पर कुछ लिखकर
पानी से पोंछ देते हैं

एक-सा सुख है उनके लिए
लिख-लिखकर पोंछना
पोंछ-पोंछ कर लिखना

हम अपनी लिखी इबारतों को
पोंछ ही नहीं पाते
दरअसल हम लिखते कहां
           खरोंचते हैं
और खरोंचें कभी पोंछी नहीं जाती !