भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़तरा प्रेम से / प्रतिभा कटियार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किस कदर उलझे रहते हैं
वे एक-दूसरे में,
किस कदर तेज़ चलती है
उनकी साँसें
किस कदर बेफ़िक्र हैं
वे दुनिया के हर ख़ौफ़ से
कि दुनिया को उनसे
ही लगने लगा है डर,
कि उन पर ही लगी हैं
सबकी निगाहें
वे कोई आतंकवादी नहीं,
न ही सभ्यताओं के
हैं दुश्मन
न उनके दिमाग में है
कोई षड़यंत्र
फिर भी दुनिया को लग रहा
उनसे डर ।