भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़राब लोगों से भी रस्म व राह रखते थे / अनवर जलालपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़राब लोगों से भी रस्म व राह रखते थे
पुराने लोग ग़ज़ब की निगाह रखते थे

ये और बात कि करते थे न गुनाह मगर
गुनाहगारों से मिलने की चाह रखते थे

वह बदशाह भी साँसों की जंग हार गये
जो अपने गिर्द हमेशा सिपाह रखते थे

हमारे शेरों पे होती थी वाह वाह बहुत
हम अपने सीने में जब दर्द-ओ-आह रखते थे

बरहना सर हैं मगर एक वक़्त वो भी था
हम अपने सर पे भी ज़र्रीं कुलाह रखते थे