भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ाक होता ग़म ग़लत ऐ रश्क़े गुल फ़ुर्क़त की रात / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ाक होता ग़म ग़लत ऐ रश्क़े गुल फ़ुर्क़त की रात
मुझ को जामे-ज़हर था हर जामे-मुल फ़ुर्कत की रात

छा गयी गर्दू पे ज़ुल्मत की घटाएं चार सू
हो गईं शमएं-सितारों की भी गुल फ़ुर्कत की रात

ता न सुन पाए मिरे नाले वो मस्ते-ख़ाबे-नाज़
शहर में बरपा रहा शोरे-दुहल फ़ुर्कत की रात

वक़्त आ पड़ने पे कोई भी न काम आया मिरे
दे गई ज़ालिम अजल भी मुझ को फ़ुर्कत की रात

झिलमिलाने तो लगा था शाम ही से ऐ 'वफ़ा'
हो गया आख़िर चिराग़े-उम्र गुल फ़ुर्क़त की रात।